Breaking News

कविता

हाजिओ आओ शहंशाह का रोज़ा देखो!

आशिक़ाने रसूल के लिए एक आशिक़े रसूल का कलाम तशरीह के साथ पेश किया जाता है, पढ़ें, झुमें और शेयर करें बिरादराने मिल्लत! इस नात शरीफ़ में आला ह़ज़रत रहमतुल्लाह अलैहि ने बहुत ख़ूबसूरत और दिलनशीं अंदाज़ में उन लोगों के उस बातिल नज़रिया का रद्द किया है, जो कहते …

Read More »